• Tue. Jul 23rd, 2024

सरकारी विद्यालयों के शिक्षिकाओं को महिलाओं के कानूनी अधिकार के बारे में जागरूक किया

Byadmin

Oct 31, 2021
Please share this News

धनबाद

आजादी का अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य मे राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकार एवं राष्ट्रीय महिला आयोग के तत्वाधान में प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश सह अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकार श्री राम शर्मा के निर्देश पर जिला विधिक सेवा प्राधिकार धनबाद के द्वारा व्यवहार न्यायालय धनबाद के परिसर में विधिक सशक्तिकरण सह जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। इसमें जिले के विभिन्न सरकारी विद्यालयों की 54 महिला शिक्षिकाओं ने भाग लिया।

कार्यक्रम का शुभारंभ जिला एवं सत्र न्यायाधीश सुजीत कुमार सिंह के द्वारा दीप प्रज्वलन करके किया गया एवं न्यायधीश के द्वारा कहा गया कि महिलाएं समाज के उत्थान में पुरुषों से कम नहीं है।

इसके अलावा कार्यक्रम में उपस्थित मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी संजय कुमार ने कहा कि महिलाएं जननी होती हैं जब समाज में महिलाएं सशक्त होगी तो हमारा देश भी शक्तिशाली होगा।

इस बाबत जानकारी देते हुए अवर न्यायधीश सह सचिव डालसा निताशा बरला ने बताया कि आज देश की महिलाएं इतनी सशक्त हो गई हैं कि पुरुषों से कंधे से कंधा मिलाकर चांद पर जा रही है।

आज के इस कार्यक्रम में मुख्य प्रवक्ता के रूप में मध्यस्त अधिवक्ता मीना कुमारी एवं पैनल अधिवक्ता संचिता डे रॉय के द्वारा शिविर में उपस्थित शिक्षिकाओं को बारी – बारी से जागरूक किया गया। मीना कुमारी के द्वारा दहेज उत्पीड़न, घरेलू हिंसा एवं मध्यस्ता के बारे में विस्तार पूर्वक बताया गया। पैनल अधिवक्ता संचिता डे राय के द्वारा महिलाओं के संवैधानिक अधिकार के बारे में बताया गया।

इसी कड़ी में जिला विधिक सेवा प्राधिकार के द्वारा धनबाद बस स्टैंड में विधिक जागरूकता सह प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। जिसमें सैकड़ों लोगों को निशुल्क विधिक सहायता के बारे में बताया गया।

कार्यक्रम को सफल बनाने में डालसा के सहायक एवं पैरा वैधानिक स्वयंसेवकों ने अपनी अहम भूमिका निभाई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *