• Tue. May 21st, 2024

बंगाल की सीएम बोलीं- ‘ममता की गारंटी औरों की तरह झूठ नहीं है

ByAdmin Office

Apr 6, 2024
Please share this News

 

 

जलपाईगुड़ी: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उस गारंटी पर कड़ी आलोचना की, जिसके बारे में पिछले कुछ महीनों में प्रधानमंत्री ने बार-बार कहा है. मुख्यमंत्री व तृणमूल सुप्रीमो ममता बनर्जी ने शुक्रवार को उस ‘गारंटी’ का जवाब दिया. उन्होंने यहां एक चुनावी रैली के दौरान कहा, ‘ममता की गारंटी मोदी की तरह झूठ नहीं है.’

 

तृणमूल कांग्रेस ने आगामी लोकसभा चुनाव 2024 के लिए जलपाईगुड़ी लोकसभा क्षेत्र से निर्मल चंद्र रॉय को उतारा है. रॉय ने कुछ महीने पहले उपचुनाव के माध्यम से धूपगुड़ी विधानसभा सीट जीती थी.

 

शुक्रवार को जलपाईगुड़ी में रॉय के समर्थन में चुनाव प्रचार के दौरान ममता ने केंद्र की मोदी सरकार और भाजपा पर हमला बोला. उन्होंने बार-बार शिकायत की कि बीजेपी जब वादा करती है तो उसे पूरा नहीं करती. उन्होंने यह भी दावा किया कि उनकी पार्टी या सरकार सभी वादे पूरे करती है.

 

ममता बनर्जी ने कहा, ‘मैं लोगों को कभी धोखा नहीं देती. मुझे लगता है कि आपके काम को बोलना चाहिए. मैं लोगों को धोखा देने के बजाय मर जाना पसंद करूंगी. मैं जो कहती हूं वह करती हूं. और जैसा कि मैंने कहा, मैं यह करती रहूंगी. कारण, ममता की गारंटी मोदी की गारंटी की तरह झूठ नहीं है. करुणा की गारंटी करुणा नहीं, बल्कि मां-माटी-मानुष है. मुझे अपनी पब्लिसिटी नहीं चाहिए. मैं चाहती हूं कि मां-माटी-मानुष का प्रचार-प्रसार अच्छा रहे.’

 

ममता ने कहा कि ‘बंगाल की मुख्यमंत्री ने मंच से बीजेपी और मोदी की गारंटी को समझाया. उन्होंने दावा किया कि संविधान को तोड़-मरोड़ कर पेश करना, अंबेडकर-गांधीजी का नाम भूल जाना, देश के टुकड़े-टुकड़े कर देना ही मोदी की गारंटी है.’

उन्होंने एक बार फिर बीजेपी पर सीएए के जरिए एनआरसी की योजना बनाने का आरोप लगाया. उनकी शिकायत है कि बीजेपी देश के लोगों को विदेशी बनाना चाहती है. इसलिए उन्होंने नारा दिया, ‘लड़ो, काम करो, जीतो और बीजेपी को हराओ.’

इसी के साथ उन्होंने एक बार फिर मोदी सरकार पर राज्य का आवंटन रोकने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि ‘…मोदीबाबू मुझे बताएं, आपने बंगाल को अपमानित करने के लिए 355 टीमें भेजी हैं.

 

उसके बाद भी हमारे पास तीन साल और एक सौ दिन के काम के पैसे क्यों नहीं हैं? हम भारत में नंबर एक थे.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *