• Wed. Feb 21st, 2024

श्रद्धानंद सिंह को मिला राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, हजारीबाग के जिला संघचालक का दायित्व

ByAdmin Office

Nov 25, 2023
Please share this News

शनिवार को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की एक अहम बैठक स्थानीय मालवीय मार्ग स्थित संघ कार्यालय में हुई। बैठक में सर्वसम्मति से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ हजारीबाग जिले के जिला संघ चालक के रूप में हजारीबाग के प्रतिष्ठित समाजसेवी सह पूर्व से संघ से जुडे़ रहने वाले श्रद्धानंद सिंह को यह दायित्व सौंपा गया। श्रद्धानंद सिंह को राष्ट्र कार्य और समाजहित में अपने आप को समर्पित करने हेतु संघ द्वारा यह नया दायित्व सौंपा गया ।

श्रद्धानंद सिंह का जन्म 3 जनवरी 1968 को हजारीबाग जिले के इचाक बाजार में हुआ। उनके पिता का नाम स्व. काली प्रसाद सिंह और माता का नाम केतकी देवी है। उनके पिता स्व.काली प्रसाद सिंह एक सामाजिक कार्यकर्ता, इचाक के भूतपूर्व सरपंच और धार्मिक व आध्यामिक व्यक्तित्व के धनी होने के साथ लेखक के रूप में भी उनकी ख्याति रही है एवं उनकी माता गृहणी हैं। श्रद्धानंद सिंह के तीन भाई और पांच बहन हैं। वे वर्तमान में हजारीबाग शहर के न्यू एरिया रोड़ स्थित पंचमुखी हनुमान मंदिर के समीप रहते हैं।
श्रद्धानंद सिंह एक सफल व्यवसाई होने के साथ सामाजिक कार्यों में बढ़-चढ़कर भागीदारी निभाते हैं। सेवाभावी सोच और उदारवादी व्यवहार के साथ समाज में मानवता और इंसानियत को जिंदा रखने के लिए वे सदैव अपनी महत्ती भागीदारी सुनिश्चित करते हैं। श्रद्धानंद सिंह शिक्षा के क्षेत्र में कार्यरत संघ की अनुसांगिक इकाई विद्या भारती द्वारा संचालित अनेकों स्कूलों में अध्यक्ष और सचिव के पद पर रहते हुए शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए प्रयत्नशील रहें हैं। उन्होंने एकल अभियान में पूर्व भाग अध्यक्ष का अहम जिम्मेवारी निभाया है जिसमें हजारीबाग, कोडरमा और चतरा जिले के एकल विद्यालय के बेहतर संचालन में अपना उत्कृष्ट योगदान दिया है। वर्तमान में श्रद्धानंद सिंह कोलकाता पिंजरापोल सोसाइटी द्वारा संचालित हजारीबाग गौशाला के सचिव और संघ के कई ट्रस्टों में प्रमुख दायित्व का भी बखूबी निर्वहन कर रहें है। संघ के महत्वपूर्ण दायित्व प्राप्त होने के बाद श्रद्धानंद सिंह को बधाइयों और शुभकामनाओं का तांता लगने लगा ।

इधर हजारीबाग विधायक मनीष जायसवाल ने भी श्रद्धानंद सिंह को इस नए दायित्व और जिम्मेदारी के लिए बधाई दिया और उनके उज्जवल भविष्य की कामना भी ईश्वर से की ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!