• Mon. May 23rd, 2022

अंतर्कथा

निष्पक्ष निर्भीक निडर

मेसकौर वीडियो, आवास परिसर में जैविक विधि से उपजा रहे हरी सब्जी, क्षेत्र में बना आकर्षण का केंद्र*

ByAdmin Office

May 13, 2022
Spread the love

*मेसकौर वीडियो, आवास परिसर में जैविक विधि से उपजा रहे हरी सब्जी, क्षेत्र में बना आकर्षण का केंद्र*

संवाद सूत्र, मेसकौर (नवादा):- मेसकौर प्रखंड विकास पदाधिकारी दुनिया लाल यादव ने अपने आवास परिसर में जैविक विधि से हरी सब्जियों की खेती कर रहे हैं। जो पूरे प्रखंड में आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। प्रखंड मुख्यालय आने जाने वाले प्रखंड क्षेत्र के लोगों की नजर जब हरी सब्जी की लगे खेत की ओर गई तो मुख्यालय से लेकर पूरे प्रखंड क्षेत्र में चर्चा का विषय बन गया। एवं प्रखंड मुख्यालय आने वाले ज्यादातर लोग  वीडियो आवास के समीप लगे हरी सब्जी की खेतों को देखने अवश्य पहुंच जाते हैं। प्रखंड विकास पदाधिकारी दुनिया लाल यादव ने शुक्रवार को मीडिया कर्मियों को बताया कि जैविक विधि से ककड़ी, खीरा, करेला ,कद्दू ,तरबूज ,भिंडी, बैगन आदि की खेती कर रहे हैं। ताकि इस कार्य से किसान भाई प्रेरणा लेकर कृषि कार्य कर अपने आमदनी को और बढ़ा सकते हैं। उन्होंने बताया कि जैविक खेती से भूमि की उपजाऊ क्षमता में वृद्धि हो जाती है। सिंचाई अंतराल में वृद्धि होती है।रासायनिक खाद पर निर्भरता कम होने से लागत में कमी आती है।फसलों की उत्पादकता में वृद्धि एवं बाज़ार में जैविक उत्पादों की मांग बढ़ने से किसानों की आय में भी वृद्धि होती है।
जैविक खेती भूमि की उर्वरा शक्ति को बनाए रखता है। एवं इस विधि में  फसल चक्र, हरी खाद, कम्पोस्ट आदि का प्रयोग करनी चाहिए। जैविक खेती के लिए सबसे जरुरी कंपोनेंट है गोबर। इसलिए जब जैविक खेती के लिए खेत तैयार करते हैं तो इसमें अधिक से अधिक गोबर मिलाया जाता है। फसल लगाने के लिए बाद खरपतवार और कीट पर ध्यान देना होता है।गाय के गोबर के घोल और प्राकृतिक तौर पर तैयार किये गये खाद को पानी के जरिये पौधों को दिया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!