• Wed. Feb 21st, 2024

बाल संरक्षण के मुद्दे पर बाल संरक्षण समिति को किया गया प्रशिक्षित

ByAdmin Office

Sep 26, 2023
Please share this News

 

गावां प्रखंड कार्यालय के सभागार में जिला बाल संरक्षण समिति और कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रंस फाउंडेशन के संयुक्त तत्वावधान में गावां प्रखंड में गठित सभी ग्राम स्तरीय बाल संरक्षण समिति के सचिव सह आंगनवाड़ी सेविकाओं को बाल संरक्षण के मुद्दे पर प्रशिक्षण देने हेतु 1 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित की गई।
कार्यशाला का शुभारंभ दीप प्रज्जवलित कर किया गया। गावां प्रखंड विकास पदाधिकारी महेंद्र रविदास ने कहा कि, कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रंस फाउंडेशन द्वारा आयोजित कार्यशाला के माध्यम से मिलकर गावां प्रखंड को बाल शोषण मुक्त बनाने के लिए आज के प्रशिक्षण कार्यशाला में सभी प्रतिभागी सक्रिय रूप से भाग लेकर कार्यशाला को सार्थक बनाएं।
जिला परिषद सदस्य पवन चौधरी ने कहा कि, सत्यार्थी फाउंडेशन का बच्चों के प्रति बहुत ही संवेदनशील प्रयास रहता है, आज ग्राम स्तरीय बाल संरक्षण समिति की कार्यशाला का हम सभी को लाभ लेकर बच्चों के हित में कार्य करनी है।
कार्यशाला में गांवा प्रखंड के 134 आंगनवाड़ी केन्द्र की सेविकाओं को क्षेत्र में बाल संरक्षण के मुद्दे पर मुख्य रूप से ध्यान रखने हेतु आवश्यक जानकारियां दी गई। क्षेत्र को बाल विवाह, बाल मजदूरी, बाल दुर्व्यापार सहित अन्य प्रकार के शोषण से मुक्त प्रखंड बनाने के लिए आवश्यक कदम उठाने तथा उसके प्रति जनजागरुकता लाने के लिए सभी को प्रेरित किया गया।
सभी प्रतिभागियों को प्रशिक्षण देते हुए सुरेंद्र पंडित और संदीप नयन ने विस्तार से बाल संरक्षण से जुड़ी जानकारियां सभी से साझा करते हुए बताया कि, समेकित बाल संरक्षण योजना और समेकित बाल विकास योजना एक दूसरे के पूरक हैं। किसी भी जीव को विकास करने के लिए जितना आवश्यक खान पान की है उतनी ही उसके संरक्षण की भी होती है। बच्चों को समाज के साथ लेकर चलने की आवश्यकता है, जरूरत है उनकी बातों को सुना जाए। बच्चों के 4 अधिकार भी यही सुनिश्चित करते हैं। जीवन जीने का, विकास करने का, सुरक्षा का और सहभागिता का अधिकार । आवश्यक है कि ,बच्चों के संरक्षण के लिए गठित किए गए बाल संरक्षण समिति के सभी सदस्य अपने कर्तव्यों का निर्वहन ईमानदारी से करें, तभी बाल शोषण मुक्त समाज का निर्माण हो सकेगा।
कार्यशाला के दौरान आंगनवाड़ी महिला पर्यवेक्षिका आरती कुमारी ने सभी को बच्चों के भाव को पहचानने और उन्हें संस्कारों से युक्त बनाने के गुर सिखाए। सभी से ग्राम स्तरीय बाल संरक्षण समिति के कर्तव्यों के निर्वहन के लिए प्रेरित किया।

वही कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रंस फाउंडेशन के जिला समन्वयक सुरेंद्र पंडित ने बताया कि, कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रंस फाउंडेशन बच्चों के हक और अधिकारों की बात करती आई है, नोबेल पुरस्कार विजेता श्री कैलाश सत्यार्थी जी की अगुवाई में करुणामय समाज निर्माण हेतु जनजागरुक बनाने हेतु समय समय पर विभिन्न कार्यक्रम चलाए जाते हैं। आज उसी में एक कड़ी को जोड़ते हुए बाल संरक्षण समिति को सशक्त बनाने हेतु प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन किया गया है। बच्चों की चहुमुखी विकास हेतु हर एक कड़ी को मजबूत बनाना होगा ताकि चारों ओर से समाज में बच्चे अपने आप को सुरक्षित महसूस कर सकें।

आज की कार्यशाला को सफल बनाने में सत्यार्थी फाउंडेशन के राजेश सिंह, अमित कुमार, भीम चौधरी, वेंकटेश प्रजापति सहित सभी आंगनवाड़ी सेविका का महत्वपूर्ण योगदान रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!