• Wed. Feb 21st, 2024

निरसा के राष्ट्रीयमार्ग घंटो जाम में फंसे रहे एम्बुलेंस 

ByAdmin Office

Nov 24, 2023
Please share this News

संवाददाता :नरेश विश्वकर्मा
निरसा के राष्ट्रीयमार्ग में प्रतेक दिन घंटो जाम लगा रहता है!यह जाम ऐसा लगता है, की अगर आप घर में कोई विमार ब्यक्ति अगर शिरियस हो जाता है, तो उस मरीज को अगर एम्बुलेंस के माध्यम से अगर आप ले जाना चाहेंगे तो फिर भी नहीं ले जा संकेंगे!क्योंकि निरसा चौक से लेकर गोपालगंज तक चारो सडक जाम, ऐसा क्यों होता है, यह भी निरसा के जनता को इस सम्बन्ध में जानना जरुरी है!निरसा के जनता समझते है की इस जाम के वज़ह प्रशासन है, ये लोगों का भरम है!क्योंकि यहाँ के जाम में सबसे ज्यादा जनता और नेता दोषी है!आज निरसा चौक में जाम होने का मुख्य वज़ह है, केवल फुटपाथ दुकानदार!जब किसी प्रसासनिक अधिकारी द्वारा इसे हटाने की कोशिश करता है, तो कोई नेता प्रशासनिक अधिकारी पर दबाब बनाते है!कि गरीब के रोजी रोटी का सवाल है!जरा उस नेता जनता को पूछना चाहिए, की दस फुटपाथ दुकानदार सडक पर चौकी लगाकर बैठ जाता है, अगर किसी दुकानदार उस फुटपाथ दुकानदार के लिये, मुवाजे का मांग करता है!जो की निरसा चौक पर जितने भी फुटपाथ दुकानदार है, अगर सभी दुकानदारों का प्रशासनिक अधिकारी द्वारा जाँच किया जाय तो आधे से अधिक फुटपाथ दुकानदारों का निरसा हटिया में सरकार द्वारा दुकान लेकर किराये में लगाकर रूपये कमा रहा है!अगर निरसा चौक या फिर हटिया मोड़ जाम रहता है, तो निरसा पुलिस जाम को हटाते है, तो हटाते हटाते कोई मोटरसाकील वीच में ढूक जाता है!जब वहीं पुलिस बाइक को डाटने का प्रयास करता है, तो वहीं बाइक वाला ट्राफीक पुलिस उलझ जाता है!इसका कौन दोषी है!पुलिस, जनता या फिर नेता नहीं ये सबसे बड़ा अगर दोषी है!तो निरसा चौक में बसें फुटपाथ दुकानदार मेरा मानना है, की अगर प्रशासनिक अधिकारी द्वारा सही और एक एक फुटपाथ दुकानदार का नाम लिखकर गुप्त से बाजार समिति द्वारा पता चल जायेगा की किस फुटपाथ दुकानदार का कितना दुकान बाजार समिति द्वारा अलाटमेंट हूआ है!एक फुटपाथ दुकानदार का कितना दुकान बाजार समिति द्वारा मिला है!मुश्किल से मुश्किल एक दो से ज्यादा फुटपाथ दुकानदार का कहीं दुकान नहीं है, बाकी सारे फुटपाथ दुकानदारों का दुकान हटिया में बाजार समिति द्वारा ख़रीदा गया है!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!