• Mon. Jul 22nd, 2024

तो क्या कन्हैया के बाद आप पप्पू यादव भी होंगे बिहार से कांग्रेस का चेहरा…?,जाप के विलय से बिहार में होगा कांग्रेस मज़बूत

Byadmin

Oct 5, 2021
Please share this News
बिहार में लगातार कांग्रेस मज़बूत हो रही है। कन्हैया कुमार के बाद अब पप्पू यादव को भी कांग्रेस पार्टी में शामिल करना चाहती है। उनको जन अधिकार पार्टी (JAP) के विलय का प्रस्ताव भी दिया गया है, लेकिन पप्पू गठबंधन चाहते हैं।
बताया जा रहा है कि बातचीत अंतिम दौर में है। उम्मीद है कि पप्पू कांग्रेस की बात मान जाएंगे। मंगलवार को पटना में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर उन्होंने इसके संकेत भी दिए।
उन्होंने कहा- ‘बुधवार को कोर कमेटी की बैठक करूंगा। कांग्रेस की पूर्व सांसद और पत्नी रंजीत रंजन से बात करूंगा। इसके बाद राहुल गांधी से मुलाकात करूंगा।’ कांग्रेस में शामिल होने के सवाल पर कहा- ‘कांग्रेस पार्टी तो राजा है और मैं रंक हूं।’
वहीं, इस पूरे मसले पर भास्कर से कांग्रेस विधायक दल के नेता अजीत शर्मा ने सीधे तो कुछ नहीं कहा, लेकिन उन्होंने संकेत दिए कि कांग्रेस पप्पू यादव के निर्णय का इंतजार कर रही है। उनकी पार्टी का विलय कांग्रेस में हो जाएगा। इसके लिए गंभीरता पूर्वक बातचीत भी चल रही है।
इस पूरे राजनीतिक घटनाक्रम के पीछे सियासी रणनीतकार प्रशांत किशोर का हाथ बताया जा रहा है। इससे पहले उनके पास कन्हैया कुमार को पार्टी में शामिल कराने की जिम्मेदारी थी। जिसे उन्होंने बखूबी निभाया है।

कांग्रेस से सांसद रह चुकी हैं पत्नी रंजीत रंजन

पप्पू यादव की पत्नी रंजीत रंजन, सुपौल से कांग्रेस की सांसद रह चुकी हैं। अभी वे कांग्रेस की राष्ट्रीय सचिव हैं। पप्पू यादव के जेल जाने के बाद रंजीत रंजन ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर नीतीश सरकार को घेरा था। पप्पू यादव भाजपा, जदयू, RJD से ज्यादा कंफर्ट कांग्रेस के साथ फील करते हैं। पप्पू यादव किन शर्तों के साथ कांग्रेस का साथ देते हैं, यह तय होना बाकी है।

पप्पू के खिलाफ राजद कार्यालय में हुई थी प्रेस वार्ता

कांग्रेस को एक ऐसा यादव नेता चाहिए जिसकी छवि ठीक हो। पप्पू यादव ने लगातार समाजसेवा से अपनी अलग छवि गढ़ी है। कोर्ट द्वारा बाइज्जत बरी किए जाने से यह मैसेज पब्लिक में गया है कि कोरोना काल में लोगों की सेवा और भाजपा के पूर्व केन्द्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूढ़ी से जुड़ा एम्बुलेंस मामला उजागर करने का खामियाजा ही उन्हें भुगतना पड़ा। कांग्रेस के पास बिहार में कोई बड़ा यादव जाति का नेता नहीं है। चंदन यादव राष्ट्रीय सचिव हैं, पर पप्पू यादव जैसी बड़ी इमेज नहीं है। यह कमी भूमिहार जाति के कन्हैया कुमार से भी पूरी नहीं होने वाली। जब पप्पू यादव जेल जा रहे थे, उस समय RJD कार्यालय में उनके खिलाफ प्रेस कॉन्फ्रेंस कर दोषी करार दिया जा रहा था। पप्पू यादव के जेल जाने पर लालू प्रसाद भी चुप रहे थ

गठबंधन टूटा

शर्मा से भास्कर ने जब यह सवाल किया कि पप्पू यादव का कहना है कि कांग्रेस-RJD के साथ गठबंधन तोड़े। इस पर उन्होंने कहा कि गठबंधन तो टूट गया। जब दोनों जगह RJD लड़ रही है और दोनों जगह कांग्रेस भी उम्मीदवार देगी, तो फिर बचा क्या?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *