• Mon. May 23rd, 2022

अंतर्कथा

निष्पक्ष निर्भीक निडर

कुमारधुबी में दिहाड़ी मजदूर को बेरहमी से पिटा, एसएसपी से लगाई न्याय की गुहार

ByAdmin Office

May 14, 2022
Spread the love

कुमारधुबी में दिहाड़ी मजदूर को बेरहमी से पिटा, एसएसपी से लगाई न्याय की गुहार

कुमारधुबी : पंचमोहली पंचायत के रहने वाले दिहाड़ी मजदूर शंभू वर्मा ने अपने ऊपर जानलेवा हमला किए जाने को लेकर धनबाद एसएसपी से न्याय की गुहार लगाई हैं शंभू वर्मा ने लिखित आवेदन में कहा हैं कि मैं एक दिहाड़ी मजदूर हूँ

 

मेरा इस दुनिया मे कोई भी नही हैं और मैं कुमारधुबी बाजार में मोटिया का काम करके भरण पोषण करता हूँ 11 मई को भोला अग्रवाल के कहने पर राशन का समान लेकर रमेश कुमार अग्रवाल के दुकान पहुँचा तभी रमेश कुमार अग्रवाल आग बबुला हो गया

 

और बोला कि भोला को कल समान भेजने को कहा था आज कियू भेज दिया मै कहा कि आप स्वयं बात कर ले इसमें हमारा क्या गलती इतने पर रमेश कुमार अग्रवाल एवं उसका पुत्र मुझे बेरहमी से लाठी डंडे से पिटने लगा आस पास कई लोग इकठ्ठा हो गए तभी लोगो ने मुझे छुड़ाया मुझे अंदुरिणी काफी चोट आई हैं जब इसकी शिकायत लेकर कुमारधुबी ओपी पहुँचे तो कुमारधुबी प्रभारी द्वारा

 

कोई न्याय नही मिला मै अपने आपको ग्लानि महशुस करने लगा और खुद को आत्महत्या करने का मन बना लिया था तभी कुछ लोग ने कहा कि आप एसपी से मिले मैने धनबाद एसएसपी कार्यालय पहुँच कर आपबीती सुनाई एवं लिखित आवेदन दिया एसएसपी साहब ने न्याय दिलाने एवं दोषी पर कार्यवाही करने की बात कही हैं अगर मुझे न्याय नही मिला तो मैं आत्महत्या कर लूंगा और उसका जिम्मेवार रमेश कुमार अग्रावल एवं उसका पुत्र निखिल कुमार अग्रवाल होगा समाज के लोगो से पूछना चाहता हूँ कि क्या समाज मे गरीब का कोई इज्जत नही हैं अगर अपने आत्म सम्मान की रक्षा के लिए मुझे हथियार भी उठाना पड़ेगा तो मुझे को कुरेद नही होगा मेरा इस दुनिया मे कोई नही हैं। वही इस संबंध में दुकानदार रमेश अग्रवाल ने बताया कि शंभू काफी झगड़ालू किस्म का आदमी है। आये दिन बाजार के दुकानदार सहित अन्य लोगों के साथ झगड़ता रहता है। मैंने उसे मना किया था कि घर मालिक के यहां शादी कार्यक्रम है। इसलिए समान लेकर नही आये। बाबजुद वह लेकर आ गया। कहने पर झगड़ने लगा। कहां आज मेरी कमाई पूरी नही हुई है। इसलिए समान लेकर आ गया हूँ। इसी को लेकर बहस हुई उसके बाद उसी के द्वारा मुझे एवं मेरे बेटे को मारा गया।
मुझे न्याय चाहिए ताकी और कोई मजदूर के हाथों कोई उद्योगपति को नहीं पीटा जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!